Home टूरिज्म बेजोड़ स्थापत्य कला के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं खजुराहो के मंदिर

बेजोड़ स्थापत्य कला के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं खजुराहो के मंदिर

by admin@bremedies
0 comment

खजुराहो में स्थित मंदिरों की प्रसिद्धि देश-विदेश में है। कुछ मंदिरों के खंडहर हो जाने के चलते अब उनमें पूजा नहीं होती लेकिन स्थापत्य कला के यह बेजोड़ नमूने हैं। हर वर्ष यहाँ हजारों की संख्या में देश विदेश से पयर्टक आते हैं। आइए एक नजर डालते हैं खजुराहो के कुछ मंदिरों पर। देखा जाये तो खजुराहो के मंदिर भौगोलिक दृष्टि से तीन समूहों में विभाजित हैं- पश्चिमी, पूर्वी और दक्षिणी।

कंदरिया महादेव

इस मंदिर के चारों कोने अब खंडहर हो गए हैं। कंदरिया महादेव के तोरण से परे, छह आंतरिक कश्यो मे पोर्टिको, मुख्य हाल, बरोठा और पवित्र छत पर विशेष रूप से उल्लेखनीय चीज़े खुदी हुई है। इसके अलावा पश्चिमी समूह में चैन्सत योगिनी का ग्रेनाइट मंदिर है, जो काली को समर्पित है, यह भी चतुष्कोणीय होने के कारण अद्वितीय है। मूल 65 कक्ष में से केवल 35 ही शेष रह गए हैं और काली की कोई छवि भी नहीं बची है। एक और काली मंदिर (मूल रूप से विष्णु को समर्पित) देवी जगदम्बे मंदिर भी यहाँ स्थित है। सूर्य को समर्पित, चित्रगुप्त मंदिर, यहाँ से उत्तर पूर्व की ओर उगते सूरज की तरफ है।
समूह दृश्य भी उतने ही शानदार हैं जैसे शाही जुलूस, हाथियों की लड़ाई, शिकार के दृश्य, समूह नृत्य इत्यादि। चंदेल राजाओं और उनकी अदालत की भव्य जीवन शैली अपनी महिमा के साथ यहाँ दर्शायी गयी है। कंदरिया महादेव की तरह ही विश्वनाथ मंदिर भी है, जिसके उत्तरी पार्श्व में शेर के कदम हैं और दक्षिण में हाथियों के, मंदिर के भीतर एक प्रभावशाली तीन सर वाली ब्रह्मा की छवि भी है। मंदिर के सामने एक नंदी मंदिर भी है जिसमे 6 फुट ऊंचा नंदी बैल बना है।
चूंकि पहले के कुछ चंदेल शासक विष्णु के भक्त थे, खजुराहो में कुछ महत्वपूर्ण वैष्णव मंदिर भी हैं, जिनमें से बेहतरीन लक्ष्मण मंदिर है। प्रवेश द्वार पर त्रिमूर्ति, ब्रह्मा, विष्णु और शिव और विष्णु की सहचरी लक्ष्मी को दर्शाया गया है। गर्भगृह में विष्णु के अवतार की एक बड़ी मूर्ति है जो उनके नरसिंह और वराह अवतार की है। वराह अवतार एक और वैष्णव मंदिर, वराह मंदिर में भी दिखता है।कुछ अपवादों को छोड़ कर खजुराहो मंदिरों मे अब पूजा अर्चना नहीं की जाती है। मतंगेस्वारा मंदिर में अभी भी पूजा की जाती है, शिव को समर्पित इस मंदिर में 8 फुट ऊँचा शिवलिंग है।

पूर्वी समूह

हिंदू और जैन मंदिर मिल के पूर्वी समूह बनाते हैं, जो खजुराहो गांव के करीब स्थित है। इस समूह का सबसे बड़ा जैन मंदिर, पार्श्वनाथ है। उत्तम तरीके से बनी उत्तरी बाहरी दीवार की मूर्तियाँ शायद इस मंदिर समूह में सबसे बेहतरीन हैं।

दक्षिणी समूह

खजुराहो गांव से 5 किलोमीटर को दूरी पर दक्षिणी मंदिरों का समूह निहित है। इस समूह में स्थित चतुर्भुज मंदिर में पवित्र स्थान पर विष्णु की नक्काशीदार छवि है। दुलादेओ मंदिर, दक्षिणी समूह का एक अन्य मंदिर, जैन मंदिरों के समूह से थोड़ी दूरी पर एक छोटी सी सडक़ पर स्थित है।

रोशनी और ध्वनि शो

यह आकर्षक ध्वनि-प्रकाश कार्यक्रम, महान चंदेल राजाओं और 10वीं सदी से अब तक के पश्चिमी समूह के अद्वितीय मंदिरों की कहानी दर्शाता है, पश्चिमी समूह के अद्वितीय मंदिरों के परिसर में यह 50 मिनट का कार्येक्रम हर शाम हिंदी और अंग्रेजी में चलता है।

You may also like

Leave a Comment

Business Remedies is the Leading Hindi Financial Publication, circulating all over Rajasthan On Daily Basis.

Copyright @2021  All Right Reserved – Designed and Developed by PenciDesign