Home » वल्र्डरेमिट और येस बैंक ने शुरू की तुंरत मनी ट्रांसफर की सुविधा

वल्र्डरेमिट और येस बैंक ने शुरू की तुंरत मनी ट्रांसफर की सुविधा

by admin@bremedies
0 comment

नई दिल्ली/एजेंसी- डिजिटल मनी ट्रांसफर की अग्रणी सेवा वल्र्डरेमिट ने भारत में निजी क्षेत्र के पांचवे सबसे बडे बैंक येस बैंक के साथ साझेदारी करते हुए भारत के लिए नई तुरंत मनी ट्रांसफर की सुविधा शुरू की है।
येस बैंक का एक हजार शाखाओं और 1800 एटीएम का विस्तृत नेटवर्क है। इस साझेदारी से दुनिया भर में रह रहे 16 मिलियन भारतीयों के लिए देश में भेजी गई रकम के आसान भुगतान की बढती मांग पूरी करने में सहायता मिलेगी। पूरी दुनिया में इस समय भारत में सबसे ज्यादा पैसा भेजा जाता है। विष्व बैंक के अनुसार वर्ष 2015 में भारत में 69 बिलियन डॉलर भेजे गए। विदेश में रह रहे वल्र्डरेमिट के ग्राहक अब अपने मोबाइल फोन, टेबलेट या कम्प्यूटर के जरिए सुरक्षित और तेजी से देश के 29 राज्यों और सात केन्द्र शासित प्रदेशो में रह रहे अपने मित्रों व परिवार को पैसा भेज सकेंगे।
येस बैंक अपनी इंस्टेंट पेमेंट सर्विस से पैसा वितरित करेगा। येस बैंक ने पूरी दुनिया में पैसा भेजने और तुरंत भुगतान के लिए साझेदारियों का एक नेटवर्क तैयार किया है और इसके लिए अत्याधुनिक एपीआई बैकिंग प्लेटफार्म का उपयोग किया गया है। वल्र्डरेमिट ने 50 देशों में प्रवासी भारतीयों के लिए पैसा भेजना तुरंत मैसेज भेजने जितना आसान बना दिया है। भारत में अपनी शुरूआत के बाद से वल्र्डरेमिट के ग्राहकों ने भारत में 1.2 मिलियन मनी ट्रांसफर किए हैं।
वल्र्डरेमिट के संस्थापक और सीईओ इस्माइल अहमद का कहना है कि हम अपने कामकाज का तेजी से विस्तार करने को लेकर बेहद उत्साहित हैं और हमारे प्रवासी भारतीयों के लिए तेज और आसान सेवा शुरू करते हुए हमें खुशी हो रही है। येस बैंक एक प्रतिष्ठित वित्तीय संस्थान है जिसका देश भर में विस्तृत नेटवर्क है। हमारी साझेदारी से प्रवासी भारतीयों को अपने घर पैसा भेजने के लिए बेहतर विकल्प उपलब्ध होते हैं।
येस बैंक के इंटरनेशनल बैकिंग के गु्रप प्रेसीडेंट अरूण अग्रवाल ने कहा कि अग्रणी डिजिटल रैमिटेंस कम्पनी वल्र्डरेमिट के साथ हमारी साझेदारी से ब्रिटेन और दुनियाभर में 50 देशों में रहने वाले भारतीयों को अपने घर पैसे वापस भेजने के लिए एक आसान, सुरक्षित और तेज विकल्प उपलब्ध हो जाएगा। इसके जरिए प्रवाासी भारतीयों के लिए ग्लोबल इंडियन बैकिंग प्रोग्राम को विस्तार मिलेगा।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @2023  All Right Reserved – Developed by IJS INFOTECH