Home » एस.डब्ल्यू. पाइप उद्योग का अस्तित्व खतरे में

एस.डब्ल्यू. पाइप उद्योग का अस्तित्व खतरे में

by admin@bremedies
0 comment

बीकानेर/निसं। बीकानेर जिला उद्योग संघ परिसर में राज्य सरकार की अनदेखी का शिकार हो रहे एस.डब्ल्यू. पाइप उद्योग से जुड़े उद्यमी एवं बीकानेर जिला उद्योग संघ के अध्यक्ष द्वारका प्रसाद पचीसिया के मध्य परिचर्चा का आयोजन कर एक पत्र मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे एवं उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत एवं स्वायत शासन मंत्री श्रीचंद कृपलानी को पत्र भिजवाया। पत्र में बताया गया कि पाइप जो कि शिविल लाइन में लगता है और राजस्थान में केवल 9.10 ही पाइप की फेक्ट्रियां है और ये सभी फेक्ट्रियां लघु उद्योग की श्रेणी में आती है जिले के सरकारी विभाग जिनमें नगर निगम, पीडब्लूडी एवं नगर विकास न्यास जैसे अनेक महकमों में इन पाइपों का विकास कार्यों में उपयोग लिया जाता है लेकिन विडम्बना ये है कि इन विभागों द्वारा ये पाइप राजस्थान से बाहर के क्षेत्रों से खरीदा जाता है जबकि ये पाइप राजस्थान में भी आसानी से उपलब्ध हो जाते है, लेकिन विभागों की अनदेखी की वजह से अब पाइप उद्योग का अस्तित्व खतरे में आने लग गया है और ये फेक्ट्रियां बंद होने के कगार पर आ गई है और इस उद्योग से जुड़े हजारों श्रमिक बेरोजगारी के कगार पर आ गए है। परिचर्चा में द्वारकाप्रसाद पचीसिया, राजस्थान एस.डब्ल्यू. पाइप मेन्यूफेक्चर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष जुगराज दफ्तरी आदि उपस्थित थे।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @ Singhvi publication Pvt Ltd. | All right reserved – Developed by IJS INFOTECH