Home विविध RBI नीतिगत दरों को रख सकता है बरकरार : नोमुरा

RBI नीतिगत दरों को रख सकता है बरकरार : नोमुरा

by admin@bremedies
0 comment

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक जून तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद का आंकड़ा निराशाजनक रहने के बावजूद अक्टूबर में द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दरों को यथावत रख सकता है और इसके बजाए बैंकिंग समाधान और तरलता प्रबंधन पर ध्यान दे सकता है।
नोमुरा ने एक रिपोर्ट में यह बात कही है। जापान की वित्तीय सेवा कंपनी नोमुरा ने कहा कि RBI के नजरिए से सकल घरेलू आंकड़ा निराशाजनक है लेकिन मौजूदा नरमी का कारण त्रस्ञ्ज है जो अस्थायी होना चाहिए। व्यापार, परिवहन और निर्माण जैसे नकदी गहन वाले क्षेत्रों में तेजी लौट रही है। नोमुरा की रिपोर्ट में कहा गया है कि निजी सेवाओं में सुधार यह बताता है कि त्रस्ञ्ज का प्रभाव कमजोर होने के साथ ग्रोथ में तेजी लौटेगी। नोमुरा ने एक शोध रिपोर्ट में कहा है कि हमारा मानना है कि क्रक्चढ्ढ आने वाली तिमाहियों में बेहतर वृद्धि की उम्मीद करेगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि मुद्रास्फीति पर जोर बना रहेगा।
खाद्य कीमतों में तेजी से मुद्रास्फीति में वृद्धि की प्रवृत्ति है। इसके अलावा आवास किराए में भी वृद्धि का अस्थायी प्रभाव है। साथ ही GST का भी शुरुआती मुद्रास्फीतिक प्रभाव है।रिपोर्ट के मुताबिक, अगले छह से नौ महीनों में वृद्धि और मुद्रास्फीति दोनों में वृद्धि को देखते हुए हमारा मानना है कि RBI नीतिगत दरों को मौजूदा स्तर पर बरकरार रखेगा और इसके बजाए बैंकिंग समाधान तथा तरलता प्रबंधन पर गौर करेगा। उल्लेखनीय है कि RBI ने अगस्त की शुरुआत में रेपो दर 0.25 प्रतिशत घटाकर 6 प्रतिशत कर दिया जो सात साल का न्यूनतम स्तर है।
देश की आर्थिक वृद्धि दर अप्रैल-जून तिमाही में 5.7 प्रतिशत रही जो तीन साल का न्यूनतम स्तर है। इसका कारण त्रस्ञ्ज के क्रियान्वयन से संबद्ध अनिश्चितता तथा विनिर्माण गतिविधियों में नरमी थी।

You may also like

Leave a Comment

Business Remedies is the Leading Hindi Financial Publication, circulating all over Rajasthan On Daily Basis.

Copyright @2021  All Right Reserved – Designed and Developed by PenciDesign