Home » पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस की ओर से फिक्स्ड डिपॉजिट पर 8 प्रतिशत प्रति वर्ष की प्रतिस्पर्धी ब्याज दरें पेश की

पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस की ओर से फिक्स्ड डिपॉजिट पर 8 प्रतिशत प्रति वर्ष की प्रतिस्पर्धी ब्याज दरें पेश की

by Business Remedies
0 comment

बिजऩेस रेमेडीज/नई दिल्ली
भारत की अग्रणी हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों में से एक पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस ने आज अपने फिक्स्ड डिपॉजिट पर एक आकर्षक सीमित अवधि की पेशकश की घोषणा की है, जिसमें 8 प्रतिशत प्रति वर्ष की अत्यधिक प्रतिस्पर्धी ब्याज दरें पेश की गई हैं। 60 वर्ष तक के लोगों के लिए ब्याज दर 8 प्रतिशत प्रति वर्ष रहेगी और वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह रेट 8.30 प्रतिशत प्रति वर्ष होगी। यह फिक्स्ड डिपॉजिट 23 महीने की अवधि के लिए है। विशेष ब्याज दरें 31 मार्च 2024 तक बुक की गई सभी नई और नवीनीकृत सावधि जमाओं पर लागू होती हैं, जिसमें न्यूनतमजमा राशि 10,000 रुपये होती है, जो निवेशकों को धन वृद्धि के लिए एक सुरक्षित मार्ग प्रदान करती है।
पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस के एमडी और सीईओ गिरीश कौस्गी ने टिप्पणी की, ‘‘फिक्स्ड डिपॉजिट न केवल उन ग्राहकों के लिए निवेश का एक सुरक्षित तरीका है जो अपनी वित्तीय निवेश यात्रा शुरू करना चाहते हैं, बल्कि मध्यम या कम जोखिम उठाने की क्षमता वाले लोगों के लिए भी है। हम निवेशकों को निवेश संबंधी बेहतर आदतों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सावधि जमा पर अपनी सीमित अवधि की आकर्षक ब्याज दर की पेशकश की घोषणा करते हुए उत्साहित हैं। हम ग्राहकों को इनोवेटिव किस्म के बेहतर वित्तीय समाधान प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ये ऐसे सॉल्यूशंस हैं, जो हमारे ग्राहकों की बढ़ती जरूरतों के अनुरूप हैं और उन्हें भविष्य के लिए बचत करने में मदद करते हैं।’’
पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस भारत की सबसे बड़ी डिपॉजिट बुकहोल्डर हाउसिंग फाइनेंस कंपनी है, जिसकी 31 दिसंबर 2023 तक कुल सार्वजनिक जमा राशि 17,134 करोड़ रुपये थी।
इसकी जमा राशि को क्रिसिल ‘एए/पॉजिटिव’ और केयर ‘एए/पॉजिटिव’ रेटिंग दी गई है, जो निवेशकों के बीच विश्वास का एक मजबूत संकेत देता है। कंपनी 18 हजार से अधिक चैनल भागीदारों के एक मजबूत वितरण नेटवर्क के साथ-साथ डोरस्टेप सेवाओं, बेहतर टैक्नोलॉजी और डिजिटल क्षमताओं और एक सहज अनुभव के लिए समर्पित ग्राहक सेवा प्रबंधकों के माध्यम से ग्राहकों सावधि जमा की सुविधा प्रदान करती है।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @2023  All Right Reserved – Developed by IJS INFOTECH