Home » सरकार के साथ जुड़ें स्टार्टअप कंपनियां : मोदी

सरकार के साथ जुड़ें स्टार्टअप कंपनियां : मोदी

by admin@bremedies
0 comment

नई दिल्ली/एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में स्टार्टअप संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल जनवरी में उद्यमियों को कई तरह की छूट देने की पेशकश की थी और अब वह चाहते हैं कि ये कंपनियां प्रशासन के हर क्षेत्र में सार्थक भूमिका निभाएं। मोदी ने गुरुवार को 200 से भी अधिक स्टार्टअप कंपनियों के संस्थापकों से कहा कि हमारी टीम नई चीजें सीखने को उत्सुक है और यही कारण है कि मैं आपको स्थायी रूप से सरकार के साथ जुडऩे के लिए कह रहा हूं। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से दिए गए भाषण में 2022 तक नया भारत बनाने का वादा करने के बाद मोदी अपने मिशन को आगे ले जाने के लिए स्टार्टअप कंपनियों के साथ चैंपियंस ऑफ चेंज कार्यक्रम में रूबरू हुए। इसमें स्टार्टअप संस्थापकों ने डिजिटल इंडिया, इनक्रेडिबल इंडिया और न्यू इंडिया बाई 2022 जैसे विषयों पर प्रधानमंत्री के समक्ष प्रस्तुति दी। इस दौरान सभी केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। नीति आयोग द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मोदी ने अपने 50 मिनट के भाषण में देश में स्टार्टअप के लिए उचित माहौल के वास्ते अपनी योजनाओं का खाका पेश किया और युवा उद्यमियों से प्रशासन में ज्यादा सक्रियता के साथ काम करने का आव्हान किया।
कार्यक्रम के दौरान मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों ने समस्याओं का समाधान निकालने के लिए स्टार्टअप कंपनियों के कर्ताधर्ताओं के साथ व्यापक चर्चा की। पेटीएम के प्रमुख विजय शंकर शर्मा, मोबिक्विक के विपिन प्रीत सिंह, बिगबास्केट के सहसंस्थापक और मुख्य कार्याधिकारी हरि मेनन, ओयो के संस्थापक और मुख्य कार्याधिकारी रितेश अग्रवाल, बुकमाईशो के संस्थापक और मुख्य कार्याधिकारी आशीष हेमरजानी और फार्मईजी के सहसंस्थापक धवल शाह कार्यक्रम में मौजूद थे। स्टार्टअप कंपनियों और वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों की कम से कम 6 टीमों ने डिजिटल इंडिया, ए न्यू इंडिया 2022, स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा और कौशल विकास और इनक्रेडिबल इंडिया जैसे विषयों पर प्रधानमंत्री के समक्ष प्रस्तुति दी। मोदी ने कहा कि ये ग्रुप सरकार का विस्तार बन सकते हैं और उन्हें स्थायी रूप से संबंधित मंत्रालयों के साथ जोड़ा जा सकता है ताकि उनके सुझाव नीति निर्माण में जोड़े जा सकें। मोदी ने कहा कि पिछले 3 साल में उनकी सरकार ने प्रशासन में कई बुनियादी बदलाव किए हैं जिससे कई मामलों में दलालों की भूमिका खत्म हो गई है। यही लोग अब रोजगार नहीं बढऩे का रोना रो रहे हैं।
पिछले साल जनवरी में स्टैंडअप इंडिया स्टार्टअप इंडिया कार्यक्रम में सॉफ्टबैंक ग्रुप के मासायोशी सन, उबर के ट्रेविस कलानिक, वीवर्क के सह संस्थापक और मुख्य कार्याधिकारी एडम न्यूमैन सहित 1000 से अधिक मेहमानों को आमंत्रित किया गया था वहीं स्टार्टअप के संस्थापकों के मुताबिक चैंपियंस ऑफ चेंज में चमक धमक से दूर मिशन पर ज्यादा जोर दिया गया। मोबिक्विक के विपिन प्रीत सिंह ने कहा कि इस बार हमें आश्वासन दिया गया है कि हमारी सिफारिशों पर अमल किया जाएगा।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @ Singhvi publication Pvt Ltd. | All right reserved – Developed by IJS INFOTECH