Home फाइनेंस आयकर विभाग कर चोरी करने वालों को नहीं बख्शेगा : अरूण जेटली

आयकर विभाग कर चोरी करने वालों को नहीं बख्शेगा : अरूण जेटली

by admin@bremedies
0 comment

नई दिल्ली/एजेंसी- वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार कराधान के मामले में भय और प्रीति दोनों तरह की नीति अपनाएगी। उन्होंने कहा कि जीएसटी के बाद कर अधिकारी कर चोरी करने वाले ऐसे चोरों को नहीं छोड़ेंगे जिनके इनवॉइस उनके कर भुगतान से मेल नहीं खाते। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार ने पिछले दो-तीन साल में कर चोरी को मुश्किल बनाया है जिससे कइयों को कड़ा झटका लगा है और जीएसटी अप्रत्यक्ष कर संग्रह में वृद्धि के अनुरूप प्रत्यक्ष कर आधार के विस्तार में मदद करेगा।
वैसूचना एवं सॉफ्टवेयर एवं सेवा कंपनी वोल्टर्स क्लूवेर द्वारा आयोजित पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में जेटली ने कहा कि जीएसटी के मामले में भी अभी स्वैच्छिक अनुपालन हो रहा है। जब बिलों का मिलान होगा, तब पता चलेगा कि स्वैच्छिक अनुपालन उचित है या किस सीमा तक उचित रहा है। उन्होंने कहा कि जहां तक कर का सवाल है, एक-दो महीने के अनुभव से करदाताओं को यह दिख जाएगा कि अब का नारा है- ईमानदारी में ही समझदारी है। जिनके वाउचरों का मिलान नहीं होगा, उन्हीं से सवाल पूछे जाएंगे।
एक जुलाई से लागू माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के तहत इनपुट के्रडिट का लाभ का दावा करने के लिये कारोबारियों को इनवॉइस के रूप में सौदे की मात्रा की जानकारी देनी होगी। जेटली ने चेतावनी देते हुए कहा कि आपको अपने दरों को लेकर युक्तिसंगत होने की जरूरत है, जहां तक प्रक्रियाओं का सवाल है, आपको अनुपालन बोझ कम करने की जरूरत है, करदाता और कर अधिकारियों के बीच भौतिक संबंध कम करने के लिये आपको और अधिक प्रौद्योगिकी के उपयोग की जरूरत है। साथ ही अगर कोई कानून से बचने की कोशिश करता है, आपको भय भी दिखाना होगा।
उन्होंने कहा कि जब अप्रत्यक्ष कर की मात्रा बढ़ती है, उसका प्रत्यक्ष कर आय पर प्रभाव पडऩा तय है। जेटली के अनुसार जीएसटी का प्रभाव केवल अप्रत्यक्ष कर पर नहीं होगा बल्कि प्रत्यक्ष कर की व्यवस्था भी अधिक कुशल होगी। वित्त मंत्री ने कहा कि कर को लेकर जो एक सोच है, उसमें बदलाव की जरूरत है क्योंकि इससे देश कर चोरी के कारण लाखों और करोड़ों रपये से वंचित होता है। उनका मानना है कि कानून को कड़ा किये जाने और कर आधार बढ़ाने के साथ कामकाज को और अधिक ईमानदार तरीके से करने की जरूरत है। नोटबंदी और माल एवं सेवा कर से आयकरदाताओं की संख्या उल्लेखनीय रूप से बढ़ी है।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @2023  All Right Reserved – Developed by IJS INFOTECH