Home » होम क्रेडिट इंडिया ने जुटाए 41 करोड़ रुपये

होम क्रेडिट इंडिया ने जुटाए 41 करोड़ रुपये

by admin@bremedies
0 comment

गुडग़ांव/एजेंसी। होम क्रेडिट ग्रुप बी.वी. का हिस्सा होम क्रेडिट इंडिया फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड ने एक अनूठा दोपहिया वाहनगण प्रतिभूतिकरण सौदा पूरा किया है और 41.3 करोड़ रुपये जुटाए हैं। यह होम क्रेडिट इंडिया द्वारा किया गया अपनी तरह का पहला दोपहिया वाहनगण प्रतिभूतिकरण सौदा है। इस निर्गम को डीसीबी बैंक और आईएफएमआर कैपिटल से अभिदान मिला है। इस सौदे के तहत एक विशेष उद्देशीय उपक्रम ने प्रमाण पत्रों के जरिये दो निर्गम जारी किये हैं, जिन्हें डीसीबी बैंक और आईएफएमआर कैपिटल से अभिदान मिला। इस निर्गम के सीनियर ट्रैंच को क्रिसिल द्वारा ए रेटिंग प्रदान की गई है। आईएफएमआर कैपिटल फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड इस निर्गम की व्यवस्थापक है।
होम क्रेडिट इंडिया के मुख्य वित्तीय अधिकारी मारिउज दाब्रोस्की ने कहा कि यह हमारे लिए ऐतिहासिक सौदा है और इससे भविष्य में इसी तरह के और सौदों के लिए मार्ग प्रशस्त होगा। जैसा कि होम क्रेडिट ने भारत में परिचालन के पांच वर्ष पूरे कर लिए हैं और घरेलू प्रतिभूतिकरण का बाजार उभर रहा है, हमारी योजना धन जुटाने के लिए अनूठे उपकरणों का उपयोग करने की है। इस निर्गम का सफलतापूर्वक पूरा होना यह विश्वास परिलक्षित करता है कि डीसीबी बैंक और आईएफएमआर कैपिटल ने हमारे ऊपर भरोसा जताया है और हमारा इरादा भविष्य में उनके साथ और अन्य निवेशकों के साथ यह संबंध बनाए रखने का है। आईएफएमआर कैपिटल की सीईओ क्षमा फर्नांडीज के अनुसार भारतीय प्रतिभूतिकरण का बाजार कॉरपोरेट्स खासकर एनबीएफसी के लिए विभिन्न अनूठे एवं लागत प्रभावी वित्तीय प्रतिभूतियों के जरिये धन जुटाने के लिए जबरदस्त अवसरों की पेशकश करता है। हमें इस ऐतिहासिक सौदे के लिए होम क्रेडिट इंडिया के साथ साझीदारी कर खुशी है और हमारा विश्वास है कि यह भारत में महत्तम समाधानों तक दीर्घकालीन पहुंच स्थापित करने के हमारे दृष्टिकोण में एक महत्वपूर्ण कीर्तिमान है।
होम क्रेडिट इंडिया के साथ साझीदारी के बारे में डीसीबी बैंक के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ मुरली एम. नटराजन ने कहा कि डीसीबी बैंक होम क्रेडिट के साथ जुड़कर बहुत खुश है और हम उम्मीद करते हैं कि इस प्रतिभूतिकरण सौदे में हमारा निवेश एक लंबा और पारस्परिक लाभ के सौदे के संबंध की एक शुरुआत है।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @ Singhvi publication Pvt Ltd. | All right reserved – Developed by IJS INFOTECH