Home » सोयाबीन में तेजी-मंदी बारिश की स्थिति पर रहेगी निर्भर

सोयाबीन में तेजी-मंदी बारिश की स्थिति पर रहेगी निर्भर

by admin@bremedies
0 comment

नई दिल्ली। अमेरिकी कृषि विभाग की नवीनतम रिपोर्ट मंदी की आई है। इधर, देश के अधिकतर प्रमुख उत्पादक राज्यों में मौसम सोयाबीन के अनुकूल नहीं है। आगामी दिनों में
अमेरिकी कृषि विभाग की नवीनतम रिपोर्ट में बताया गया है कि मिडवेस्ट के कई क्षेत्रों में मौसम शुष्क तथा गर्म बना होने के बाद भी सोयाबीन की नई फसल की औसत उत्पादकता 49 बुशल प्रति एकड़ रहने का अनुमान है। सोयाबीन की यह सम्भावित औसत उत्पादकता पिछले सीजन की तुलना में तथा विश्लेषकों की उम्मीद की अपेक्षा भी काफी ऊंची है। इधर, देश में सोयाबीन समेत तिलहनों की बुआई में कमी आने के बाद बोई गई फसलों पर मौसम की भी मार पडऩे का खतरा नजर आने लगा है। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश, महाराष्टï्र, राजस्थान और कर्नाटक प्रमुख सोयाबीन उत्पादक राज्य हैं। हैरानी की बात यह है कि इन सभी राज्यों में वर्षा की कमी महसूस की जा रही है। पश्चिमी राजस्थान में बेशक अच्छी वर्षा हुई है लेकिन राज्य के अन्य हिस्सों की स्थिति अलग है। इसी प्रकार, महाराष्टï्र के विदर्भ एवं मराठवाड़ा में मानसूनी वर्षा की गंभीर कमी महसूस की जा रही है। कर्नाटक में तो पहले ही सामान्य की अपेक्षा काफी कम वर्षा होने की खबरें आ रही हैं। मध्य प्रदेश में भी वर्षा की जरूरत बताई जाने लगी है। वर्षा की इस स्थिति का सोयाबीन की फसल पर नकारात्मक असर होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। दूसरी ओर, जुलाई से गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू हो चुका है। यही वजह है कि थोक बाजारों में व्यापारिक गतिविधियां सिकुड़कर नाममात्र की रह गई हैं। दूसरी ओर, अंतर्राष्टï्रीय स्तर पर बनी नवीनतम परिस्थितियों को देखते हुए ऐसा लगता है कि इस बार सोयाबीन की भारी आपूर्ति बनी रहेगी। अमेरिकी कृषि विभाग की रिपोर्ट में सोयाबीन का अंतर्राष्टï्रीय स्टॉक उम्मीद से अधिक बढऩे के आंकड़े जारी किए गए हैं। बहरहाल, विदेशों में तेजी आने और प्लांटों तथा स्टॉकिस्टों की लिवाली बढऩे से जलगांव में सोयाबीन हाल ही में थोड़ा बढ़कर फिलहाल 2950/2960 रुपए प्रति क्विंटल पर बना हुआ है। नागपुर में यह 3025/3050 रुपए पर बना हुआ है। वर्तमान तेल-तिलहन वर्ष, 2016-17 के पहले सात महीनों यानी नवम्बर, 2016-जून, 2017 में खाद्य तेलों का आयात मामूली एक प्रतिशत बढ़कर 98,63,572 टन का हुआ। बीते सीजन की आलो’य अवधि में 97,63,043 टन खाद्य तेलों का आयात हुआ था। जून, 2017 में आयात 15 प्रतिशत बढ़कर 13,44,868 टन का हुआ। आगामी दिनों में सोयाबीन की तेजी-मंदी मानसूनी वर्षा पर निर्भर बनी रहेगी।
(एनएनएस)

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @2023  All Right Reserved – Developed by IJS INFOTECH