Thursday, August 11, 2022
Home अर्थव्यवस्था मंदी से निपटना असंभव नहीं, इससे निपटा जा सकता है : डॉ. पवन अग्रवाल डब्बावाला

मंदी से निपटना असंभव नहीं, इससे निपटा जा सकता है : डॉ. पवन अग्रवाल डब्बावाला

by Business Remedies
0 comment

बिजनेस रेमेडीज। प्रमुख मैनेजमेंट सलाहकार और मोटीवेष्नल स्पीकर डॉ. पवन अग्रवाल डब्बावाला कहते हैं कि बाजार में मंदी जरूर है, लेकिन इससे निपटा जा सकता है। इसके लिये निपटने का जज्बा कारोबारी में हो, वह यह कमिटमेंट खुद से करे कि मुझे मंदी से पार पाना है, फिर वह इसके लिये योजनाबद्ध तरीके से प्रयास करे और योजना को षत-प्रतिषत लागू एवं प्रभावी करे। एक्यूरेसी इसमें सबसे महत्वपूर्ण होती है, इसके साथ उसका समर्पण भी। समय प्रबंधन एक कारोबारी के लिए बहुत बड़ी राहत प्रषस्त करता है और ग्राहक के साथ उसका बर्ताव इस मंदी से निपटने का आधार बनता है। यहाँ सूर्या मार्केटिंग के 35 वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रदेष के 1000 से अधिक इलेक्ट्रॉनिक्स कारोबारियों की एक सेमीनार ‘इलेक्ट्रॉनिक्स रिटेल-एक नया कल’ को सम्बोधित कर रहे थे।
इस अवसर पर उन्होंने साफ कहा कि किसी भी कारोबारी के लिए ग्राहक से पूछ-परख अर्थात् सम्पर्क का सिलसिला लगातार बनाये रखना चाहिए। बल्कि आपके पास ग्राहक का डाटा-बेस हो, उसके जन्मदिन पर उसे विश कीजिये, शादी की सालगिरह पर बुके या चॉकलेट भेजिये और कुछ नहीं तो कभी उसे आईसक्रीम खाने के लिये ही इनवाईट कर लीजिये। यकीन मानिये जब कभी उसे आपकी लाईन के किसी उत्पाद की जरूरत होगी तो वह आपकी ओर ही उन्मुख होगा। ग्राहक को खुद से जोड़े रखना आज की तारीख में महत्वपूर्ण है। उन्होंने डब्बावाला का उदाहरण देकर बताया कि किस तरह से डब्बावाले मुम्बई सरीखे शहर में अपनी उपयोगिता इस मंदी के दौर में भी बनाये हुए हैं जबकि जहाँ स्विगी-जौमेटो सरीखी सेवाएं लगातार उपलब्ध हैं।
सूर्या मार्केटिंग गु्रप के चेयरमैन सुरेश कालानी ने शुुरूआत में आगन्तुको का स्वागत करते हुये कहा कि विकास की अर्थ-व्यवस्था के वर्तमान युग में कारोबारी के लिये जरूरी है कि वह एक निश्चित अवधि के भीतर अपने कारोबारी परिदृश्य की समीक्षा करें, भले ही उसके व्यापार या मुनाफे का आकार बढ़ रहा हो, लेकिन इस बढ़ोतरी को देखकर संतुष्ट हो जाना भी ठीक नहीं है। तकनीकी सुधार जिस तरह से हो रहा है, उसका असर कारोबारी परिदृश्य पर भी आ रहा है, इस नवीनतम तकनीक के जरिये अपना कारोबार कैसे बढ़ायें, यह महत्वपूर्ण है। अपनी कार्य-प्रणाली को बदलते परिदृष्य के अनुरूप ढ़ालने की क्षमता और सोच भी कारोबारी में होनी चाहिये।

You may also like

Leave a Comment