Home » भारत तीन रोगों के जोखिम में, बचाव के लिए सावधानी बरतने की जरूरत

भारत तीन रोगों के जोखिम में, बचाव के लिए सावधानी बरतने की जरूरत

by Business Remedies
0 comment

कोरोना महामारी के बाद अब और कई बीमारियों ने राज्यों को चपेट में ले लिया है। इन दिनों डेंगू देश के विभिन्न राज्यों उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, तमिलनाडु, हरियाणा, केरल, हिमाचल, पंजाब आदि जगह यह अपनी जड़ें जमा रहा है। वहां इसके मामले बढ़ रहे हैं। इसके परिणामस्वरूप अस्पतालों में रोगियों की संख्या बढ़ रही है तथा कुछ मौतें भी हुई हैं। कुल मिलाकर भारत इन दिनों 3 रोगों के जोखिम में है, जिनसे बचाव के लिए जहां लोगों को अधिकतम सावधानी बरतने की जरूरत है, वहीं संबंधित राज्यों की सरकारों को भी इस संबंध में तुरंत सुरक्षा प्रबंध तेज करने चाहिए। जहां डेंगू विषाणुजनित रोग है, इससे तेज बुखार, सिरदर्द, बदन दर्द, जोड़ों व पीठ में दर्द, भूख न लगना तथा शरीर में लाल चकत्ते उभरने आदि की तकलीफ होती है। कभी-कभी रोगी के शरीर में आंतरिक रक्तस्राव भी होता है। इसके साथ ही कमजोरी व चक्कर भी आते हैं। प्लटलैट्स घटने या ब्लड प्रैशर कम होने का भी खतरा बढ़ जाता है। रोगी को खून आना शुरू हो जाता है। अगर पानी पीने और कुछ भी खाने में दिक्कत हो और बार-बार उल्टी आए तो डी-हाईड्रेशन का खतरा पैदा हो जाता है। डेंगू ‘एडीज’ नामक मादा मच्छर के काटने से होता है। डेंगू का मच्छर गंदे पानी की बजाय साफ पानी में पनपता है, इसलिए घर के अंदर या घर के आसपास पानी जमा नहीं होने देना चाहिए। उत्तर प्रदेश के नोएडा में डेंगू का खतरनाक वेरिएंट डेन-2 स्ट्रेन पाया गया है, जो काफी घातक बताया जाता है, जिसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दी है। इसी बीच महाराष्ट्र में जीका वायरस ने दस्तक दे दी है। यह भी एडीज मच्छर के काटने से फैलने वाली बीमारी है तथा महाराष्ट्र के कोल्हापुर में जीका के 2 केस मिलने के बाद प्रशासन सतर्क हो गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार एडीज मच्छर के काटने से ही डेंगू, चिकनगुनिया और यैलो फीवर फैलता है। अमरीका के सैंटर फार डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार जीका की कोई वैक्सीन या इलाज नहीं है। विशेषज्ञों का कहना है कि जीका से संक्रमित होने के बाद लगातार आराम और पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहना जरूरी है। इसके लक्षणों में शरीर पर लाल चकत्ते उभरना, बुखार, मांसपेशियों, जोड़ों और सिर में दर्द शामिल हैं। वहीं दक्षिण भारत में केरल के कोझिकोड में निपाह वायरस के बढ़ते मामलों के बीच फिर से वायरस का छठा केस मिलने के बाद स्कूल-कॉलेज २४ सितम्बर तक बंद रखने के आदेश दे दिए हैं।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @2023  All Right Reserved – Developed by IJS INFOTECH