Home » पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लिये विनिर्माण मजबूत करने की जरूरत: प्रभु

पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लिये विनिर्माण मजबूत करने की जरूरत: प्रभु

by Business Remedies
0 comment

मुंबई। भारत को विनिर्माण क्षमता मजबूत करने तथा गुणवत्तायुक्त उत्पादों का उत्पादन करने पर ध्यान देने की जरूरत है। इससे 2025 तक देश को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य पाने में मदद मिलेगी।
पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि निर्यात आर्थिक वृद्धि का मुख्य वाहक बनने वाला है। प्रभु ने कहा, ”भारत अभी 2,500 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था है और हमने 2025 तक पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का लक्ष्य तय किया है। इस लक्ष्य में पचास प्रतिशत अंतरराष्ट्रीय व्यापार होगा, निर्यात जिसका मुख्य हिस्सा होगा। पांच हजार अरब डॉलर का लक्ष्य पाने के खाका के बारे में उन्होंने कहा, ”विनिर्माण क्षमता को मजबूत करने तथा गुणवत्तायुक्त उत्पादों का उत्पादन करने पर ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ”आज के समय में हमारी सबसे बड़ी चुनौती गुणवत्ता है। हमें अपना विनिर्माण बेहतर करने की जरूरत है ताकि हम अंतरराष्ट्रीय बाजारों में प्रतिस्पर्धा कर सकें।
उन्होंने कहा कि देश अभी मुख्यत: माल, सेवाओं और कृषि उत्पादों का निर्यात करता है। देश को निर्यात बाजार की जरूरतें तथा इस दिशा में अपेक्षित कार्यों की पहचान करने की जरूरत है। प्रभु ने कहा, ”हमने विनिर्माण के अलावा सेवा उद्योग में 12 अग्रणी क्षेत्रों की पहचान की है, जिनका हम निर्यात कर सकते हैं। हमारे पास 100 अरब डॉलर के कृषि उत्पादों का निर्यात करने की भी क्षमता है।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @ Singhvi publication Pvt Ltd. | All right reserved – Developed by IJS INFOTECH