Home » नॉर्दर्न इंडियन आर्मी कमांड के तत्वावधान में आयोजित नॉर्थ टेक सिम्पोजियम (2023) के दौरान टोयोटा किर्लोस्कर मोटर ने विशेष उद्देश्य वाले आइकॉनिक हाइलक्स का प्रदर्शन किया

नॉर्दर्न इंडियन आर्मी कमांड के तत्वावधान में आयोजित नॉर्थ टेक सिम्पोजियम (2023) के दौरान टोयोटा किर्लोस्कर मोटर ने विशेष उद्देश्य वाले आइकॉनिक हाइलक्स का प्रदर्शन किया

by Business Remedies
0 comment

बिजनेस रेमेडीज/जम्मू। टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) ने नॉर्थ टेक सिम्पोजियम 2023 (एनटीएस) में विशेष उद्देश्य वाले दो आइकॉनिक हाइलक्स का प्रदर्शन किया। इन्हें एक अधिकृत बाहरी विक्रेता के सहयोग से संशोधित किया गया है। यह टेक्नालॉजी प्रदर्शित करने का वार्षिक आयोजन है। इसका आयोजन भारतीय सेना के उत्तरी कमांड ने किया था। इसमें उसे सोसाइटी ऑफ इंडियन डिफेंस मैन्युफैक्चरर्स (एसआईडीएम) और आईआईटी जम्मू का सहयोग मिला। इस आयोजन का उद्देश्य अत्याधुनिक स्वदेशी विकास और रक्षा तकनीकी क्षमताओं के उत्पादन को बढ़ावा देना और “आत्मनिर्भरता” (रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता) हासिल करना है। इसके अलावा, यह वर्ष भारतीय सेना के आधुनिकीकरण के लिए तालमेल और अनुसंधान विकास तथा नवाचार के क्षेत्रों में भारतीय सेना के प्रयासों को मजबूत करने में एक बड़ी छलांग को दर्शाता है।

विशिष्ट उपभोक्ताओं की गतिशीलता की विभिन्न आवश्यकताओं को समझने के लिए व्यापक बाजार सर्वेक्षण आयोजित करने के बाद, टीकेएम ने अपने अधिकृत बाहरी विक्रेता के माध्यम से प्रदर्शित बहुमुखी हाइलक्स (दो इकाइयां) में कुछ संशोधन किए हैं जो विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं।

सर्वेक्षण में भारतीय सेना को भी शामिल किया गया था और किये गये संशोधन भारतीय सेना की आवश्यकताओं की भी पूर्ति करते हैं। क्यूरेटेड वाहन सेना के उपयोग सहित विशेष ग्राहकों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अद्वितीय समाधानों की पहचान करने के लिए टीकेएम की प्रतिबद्धता को दर्शाते हैं और इस प्रकार बाजारों तथा कार्यक्षेत्रों में विकसित गतिशीलता आवश्यकताओं का समर्थन करते हैं। इस तरह मोबिलिटी फॉर ऑल (‘सभी के लिए गतिशीलता’) प्रदान की जाती है। 

इस तरह के बाजार सर्वेक्षण के अलावा, टीकेएम ने विशिष्ट सेना की जरूरतों और अन्य विशेष उपभोक्ता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए टोयोटा हाइलक्स के अधिकृत बाहरी विक्रेता के माध्यम से फील्ड डायग्नोसिस व्हेकिल (एफडीवी) और रैपिड इंटरवेंशन व्हेकिल (आरआईवी) में दो अलग-अलग संशोधन लागू किए हैं। विविध भूभाग और जलवायु परिस्थितियों के कारण भारतीय सेना की परिचालन और लॉजिस्टिक चुनौतियों को देखते हुए, सैनिकों की ऑन-ग्राउंड मुश्किलें दूर करने के लिए अधिक अनुकूलन और समर्पित समाधान की आवश्यकता है। इस दिशा में, एफडीवी को इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि दूरदराज के स्थानों पर आवश्यक वाहन सेवा मुहैया कराई जा सके और रक्षा आवश्यकताओं की जगह पर सेना की सहायता की जा सके। दूसरी ओर, आरआईवी आपातकालीन स्थितियों के दौरान अग्निशमन और बचाव कार्यों के लिए उपयुक्त है।

You may also like

Leave a Comment

Voice of Trade and Development

Copyright @ Singhvi publication Pvt Ltd. | All right reserved – Developed by IJS INFOTECH