Home बैंकिंग कोटक महिंद्रा बैंक ने बैंकिंग के सुरक्षित तरीकों पर फैलाई जागरूकता

कोटक महिंद्रा बैंक ने बैंकिंग के सुरक्षित तरीकों पर फैलाई जागरूकता

by Business Remedies
0 comment

बिजनेस रेमेडीज/मुंबई। कोटक महिंद्रा बैंक लिमिटेड (केएमबीएल/कोटक) ने यह घोषणा की है कि वे बैंकिंग के सुरक्षित तरीकों और शिकायत निवारण के बारे में व्यापक जागरूकता अभियान चला रहे हैं। एक माह तक चलने वाले इस पहल के अंतर्गत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) का इंटेंसिव अवेयरनेस प्रोग्राम 2022, सुरक्षित बैंकिंग के तरीकों के साथ-साथ देश के ग्रामीण तथा दूर-दराज के इलाकों में शिकायत निवारण के विषय में जागरूकता फैलाने को लेकर है। बैंक ने देश भर के विभिन्न राज्यों में ग्राहकों के साथ जुडऩे के लिये जागरूकता कार्यशालाओं और सेमिनारों के रूप में जमीनी तौर पर गतिविधियों का आयोजन किया। इसके अतिरिक्त, बैंक ने दूर-दूर तक सुरक्षित बैंकिंग के तरीकों को लेकर संदेश देने के लिये लिये ईमेल, सोशल पोस्ट, वेबसाइट, एटीएम स्क्रीन आदि के माध्यम से अपने फिजिकल के और डिजिटल, दोनों तरह के सभी ग्राहक टच पॉइंट्स का लाभ उठाया। बैंक ने जूस जैंकिंग, कार्ड स्कीमिंग, फिशिंग, विशिंग और लॉटरी स्कीम, जैसी धोखाधडिय़ों को लेकर भी प्रतिभागियों को जागरूक किया।

डिजिटिल भुगतान में इजाफा और जागरूकता अभियानों की आवश्यकता : आरबीआई, के आँकड़ों के अनुसार, 26 करोड़ से भी ज्यादा डिजिटल भुगतान लेन-देन की प्रक्रिया इसकी भुगतान प्रणाली द्वारा रोज होती है। जिसमें यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) सिस्टम अपने आपमें दो-तिहाई से भी ज्यादा की प्रक्रिया करता है। आरबीआई के भुगतान विजन 2025 दस्तावेज ने कोर थीम की पहचान की है – “हर किसी के लिए ई-भुगतान, हर जगह, हर समय (4 ईएस)” विजन के साथ – हर उपयोगकर्ता को सुरक्षित, तेज, सुविधाजनक, सुलभ और सस्ती ई-भुगतान विकल्प (6 गुण) प्रदान करता है। विराट दीवानजी, समूह अध्यक्ष और प्रमुख – उपभोक्ता बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक लिमिटेड का कहना है, “देश में डिजिटल भुगतान में तेजी देखी जा रही है। दिलचस्प बात है कि ग्रामीण और दूर-दराज के इलाकों में रह रहे लोगों में भी यह लोकप्रिय है और इसे पसंद किया जाता है। इसे देखते हुए, बैंकिंग के सुरक्षित तरीकों के बारे में बताना और क्या करना और क्या नहीं, उसके बारे में बताना, बेहद जरूरी हो जाता है। हमें बेहद खुशी है कि हम ग्राहकों को जागरूक करने के आरबीआई की पहल में अपना योगदान दे पाए और आरबीआई को अपने पेमेंट्स विजन 2025 को साकार करने में मदद करने की दिशा में थोड़ा सा प्रयास करें।” यह अभियान कोटक द्वारा एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक के रूप में चल रहे ग्राहक जागरूकता कार्यक्रमों के अलावा है।

आरबीआई द्वारा बताए गए सुरक्षित बैंकिंग के कुछ तरीके इस प्रकार हैं : क्या करें : धोखाधड़ी से बचने के लिए नकली और बैंकों या ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म की तरह दिखने वाली वेबसाइट पर जाने से वेबसाइट\यूआरएल की स्पेलिंग जांचें। प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन खरीदने\बेचने के दौरान सावधानी बरतें। यूपीआई के जरिये पैसे प्राप्त करने के बाद, कोई भी पिन\पासवर्ड डालने की जरूरत नहीं होती है। सर्च इंजन, एसएमएस, सोशल मीडिया, ईमेल, आदि से सेवा प्रदाताओं के संपर्क की जानकारियाँ सर्च ना करें।

क्या ना करें: सिम कार्ड और मोबाइल नंबर का विवरण साझा न करें या एटीएम कार्ड पर पिन ना लिखें या वेबसाइटों/उपकरणों/सार्वजनिक लैपटॉप/डेस्कटॉप पर विवरण ना सहेजें। बैंकों, बीमा, सरकार आदि से कॉल सेंटर एजेंट के रूप में प्रस्तुत करने वाले व्यक्तियों के ऑफर्स में न फंसें और उपयोगकर्ता नाम, पासवर्ड, कार्ड विवरण/पिन/सीवीवी/ओटीपी, जन्म तिथि साझा करने के लिये आधार संख्या, परिवार के सदस्यों के नाम आदि को लेकर दबाव/धोखे में न आएं। सर्च इंजन, एसएमएस, सोशल मीडिया, ईमेल, आदि से सेवा प्रदाताओं के संपर्क की जानकारियां सर्च ना करें।

You may also like

Leave a Comment